बगलामुखी विद्वेषण मंत्र

बगलामुखी विद्वेषण मंत्र

बगलामुखी विद्वेषण मंत्र: एक गूढ़ और रहस्यमय अनुष्ठान

बगलामुखी विद्वेषण मंत्र एक अत्यंत गूढ़ और रहस्यमय मंत्र है जो तंत्र साधना के अंतर्गत आता है। इस मंत्र का मुख्य उद्देश्य विद्वेषण या शत्रुओं को नियंत्रित करना और उनके बुरे प्रभाव से मुक्ति दिलाना होता है। बगलामुखी माता, जिन्हें पीतांबरा देवी के नाम से भी जाना जाता है, को विशेष रूप से तांत्रिक और साधक अत्यंत श्रद्धा से पूजते हैं। वे समस्त दुष्ट शक्तियों का नाश करने और भक्तों की रक्षा के लिए प्रसिद्ध हैं।

बगलामुखी मंत्र का महत्व

बगलामुखी मंत्र का विशेष महत्व यह है कि यह मंत्र व्यक्ति के चारों ओर एक मजबूत और अदृश्य कवच का निर्माण करता है। यह कवच उसे नकारात्मक ऊर्जा, शत्रुओं के बुरे प्रभाव, और मानसिक तनाव से बचाता है। विद्वेषण का तात्पर्य होता है शत्रुओं का नियंत्रण और उनका निवारण करना। इस मंत्र का नियमित जाप करने से व्यक्ति न केवल शत्रुओं के प्रभाव से मुक्त हो सकता है, बल्कि उसे जीवन में सफलता, समृद्धि और शांति भी प्राप्त होती है।

मंत्र की संरचना

बगलामुखी विद्वेषण मंत्र की संरचना इस प्रकार है:

“ॐ ह्लीं बगलामुखि सर्वदुष्टानां वाचं मुखं पदं स्तम्भय जिव्हां कीलय बुद्धिं विनाशय ह्लीं ॐ स्वाहा।”

इस मंत्र का हर शब्द एक विशेष ऊर्जा और शक्ति से युक्त होता है। ‘ह्लीं’ बीज मंत्र है, जो शक्ति और ऊर्जा का प्रतीक है। ‘बगलामुखि’ देवी का नाम है, जो शत्रुओं का नाश करने और बुराइयों से रक्षा करने वाली देवी हैं। इस मंत्र का नियमित उच्चारण व्यक्ति को असीम ऊर्जा और आत्मविश्वास प्रदान करता है।

मंत्र जाप का महत्व और प्रक्रिया

बगलामुखी विद्वेषण मंत्र का जाप विशेष रूप से रात्रिकाल में किया जाता है। यह माना जाता है कि रात्रिकाल में इस मंत्र का प्रभाव अधिक होता है और यह त्वरित फल देता है। इस मंत्र का जाप करने के लिए पीले वस्त्र पहनना, पीले फूलों की माला, और हल्दी का प्रयोग करना अत्यंत शुभ माना जाता है। मंत्र जाप की प्रक्रिया इस प्रकार होती है:

  1. स्थान का चयन: मंत्र जाप के लिए किसी शांति और एकांत स्थान का चयन करें। यह स्थान बिना किसी व्यवधान के मंत्र जाप के लिए उपयुक्त होना चाहिए।
  2. स्नान और शुद्धिकरण: स्नान करके शुद्ध वस्त्र धारण करें और पूजा स्थान को गंगाजल से शुद्ध करें।
  3. पीला आसन: मंत्र जाप के लिए पीले रंग का आसन बिछाएं। पीला रंग देवी बगलामुखी का प्रतीक है और इस मंत्र के लिए विशेष रूप से शुभ माना जाता है।
  4. दीपक और धूप: पूजा स्थल पर घी का दीपक जलाएं और धूप लगाएं।
  5. मंत्र जाप: बगलामुखी विद्वेषण मंत्र का जाप 108 बार माला के साथ करें। माला तुलसी, रुद्राक्ष या चंदन की हो सकती है।
  6. एकाग्रता और ध्यान: मंत्र जाप के दौरान मन को एकाग्र रखें और देवी बगलामुखी का ध्यान करें। शत्रुओं से मुक्ति और मन की शांति के लिए देवी से प्रार्थना करें।

बगलामुखी विद्वेषण मंत्र के लाभ

  1. शत्रुओं का नाश: यह मंत्र व्यक्ति के शत्रुओं का नाश करने में सहायक है। यह शत्रुओं के बुरे प्रभाव को नियंत्रित करता है और उनके नकारात्मक प्रभावों को दूर करता है।
  2. मन की शांति: मंत्र जाप के दौरान उत्पन्न ऊर्जा व्यक्ति को मानसिक शांति और स्थिरता प्रदान करती है। यह मन के तनाव और चिंता को दूर करती है।
  3. आत्मविश्वास में वृद्धि: मंत्र जाप से व्यक्ति का आत्मविश्वास बढ़ता है और वह जीवन की चुनौतियों का सामना करने में सक्षम होता है।
  4. सफलता और समृद्धि: बगलामुखी विद्वेषण मंत्र व्यक्ति को जीवन में सफलता और समृद्धि प्राप्त करने में सहायक होता है। यह व्यक्ति के चारों ओर सकारात्मक ऊर्जा का निर्माण करता है।

सावधानियाँ और निषेध

बगलामुखी विद्वेषण मंत्र का जाप करते समय कुछ सावधानियाँ रखना अत्यंत महत्वपूर्ण है। इस मंत्र का दुरुपयोग नहीं करना चाहिए, क्योंकि यह तंत्र साधना का एक शक्तिशाली हिस्सा है। इसे केवल शत्रुओं के नकारात्मक प्रभाव से मुक्ति के लिए और आत्म-रक्षा के उद्देश्य से ही प्रयोग करना चाहिए।

बगलामुखी विद्वेषण मंत्र एक अत्यंत शक्तिशाली और प्रभावशाली साधना है, जो व्यक्ति को शत्रुओं के बुरे प्रभाव से बचाती है और उसे जीवन में सफलता और समृद्धि की ओर ले जाती है। इस मंत्र का सच्चे मन और श्रद्धा के साथ जाप करने से व्यक्ति को देवी बगलामुखी की कृपा प्राप्त होती है और वह जीवन में शांति और संतोष का अनुभव करता है।

CLICK HERE TO BOOK ONLINE बगलामुखी विद्वेषण मंत्र

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shopping Cart
Home
Account
Cart
Search
Cart